fbpx
January 28, 2023
क्या है शंघाई सहयोग संगठन

क्या है शंघाई सहयोग संगठन

1 0
1 0
Read Time:16 Minute, 35 Second

Table of Contents

शंघाई सहयोग संगठन

क्या है शंघाई सहयोग संगठनएससीओ की घोषणा 2001 में की गई थी| इसका गठन तब किया गया था जब 6 देशों ने शंघाई में एक समूह बनाने का फैसला किया था। इससे पहले 1996 में यह संगठन बनाया गया था और उस समय इसे शंघाई फाइव ग्रुप के नाम से जाना जाता था। इन सभी देशों ने 2002 में सेंट पीटर्सबर्ग समझौते पर हस्ताक्षर किए और 2003 में इस संगठन ने अपनी कार्यक्षमता शुरू की।

यह एक प्रकार की पारस्परिक सुरक्षा,राजनीतिक स्थिरता व व्यापार समझौते के लिए बनाया गया संगठन है| इसका मुख्यालय बीजिंग चीन में है और एससीओ की आधिकारिक भाषा चीनी और रूसी है

sco logo
SCO Logo

भौगोलिक क्षेत्र और जनसंख्या के संदर्भ में, यह दुनिया का सबसे बड़ा क्षेत्रीय संगठन है जो यूरेशिया के लगभग 60% क्षेत्र, विश्व की 40% आबादी और वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद के 30% से अधिक को कवर करता है।

शंघाई सहयोग संगठन का विस्तार

प्रारंभ में 6 सदस्य थे – रूस, चीन, उज्बेकिस्तान, ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान, कजाकिस्तान जिन्होन एससीओ शुरू किया। 2017 में अस्ताना शिखर सम्मेलन में भारत और पाकिस्तान को पूर्ण सदस्यता प्रदान की गई थी। अब कुल 8 सदस्य हो गए हैं।
एससीओ ईरान के 9वें सदस्य के रूप में समूह में शामिल होने के साथ, विस्तार के लिए पूरी तरह तैयार है, जबकि बेलारूस ने भी सदस्यता के लिए आवेदन किया है। ईरान को स्वीकार करने का निर्णय 2021 के दुशांबे शिखर सम्मेलन में किया गया था।

शंघाई सहयोग संगठन की संरचना

sco members
SCO Members

इसमें 8 सदस्यों के अलावा शामिल हैं-

स्थायी निकाय –
a) सचिवालय – जो बीजिंग में स्थित है
b) आरएटीएस (क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी संरचना) और ताशकंद में स्थित है

पर्यवेक्षक राज्य जो की पूर्ण सदस्यता के इच्छुक हैं –
a) बेलारूस
b) ईरान
c) अफगानिस्तान
d) मंगोलिया

डायलॉग पार्टनर –
a) अज़रबैयन
b) अर्मेनिया
c) कंबोडिया
d) नेपाल
e) तुर्की
f) श्रीलंका

शंघाई सहयोग संगठन के लक्ष्य

> सदस्य देशों के बीच आपसी विश्वास को मजबूत करना
> शांति, सुरक्षा, स्थिरता और बहुपक्षीय सहयोग के लिए
> एक लोकतांत्रिक, निष्पक्ष और तर्कसंगत नई अंतर्राष्ट्रीय राजनीतिक और आर्थिक व्यवस्था स्थापना की ओर बढ़ना।

भारत और शंघाई सहयोग संगठन

sco 1 1
SCO Summit 2022

भारत ने हाल ही में 2021 के युवा कार्यों में सहयोग पर समझौते को अपनाया है। सदस्य राज्यों के बीच लोगो के संपर्क और पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए, एक नई घूर्णन पहल के तहत, वाराणसी को एससीओ की पहली “सांस्कृतिक और पर्यटन राजधानी” के रूप में चुना गया। भारत भी सितंबर 2023 तक शिखर सम्मेलन के अंत में राष्ट्रपति पद ग्रहण करेगा और अगले साल शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा।

इसके अलावा भारत यह भी मान लेगा कि 1 दिसंबर 2022 से शुरू होने वाले एक वर्ष के लिए G20 की अध्यक्षता और लंबित कार्यकाल के दौरान देश भर में 200 से अधिक बैठकों की मेजबानी करने की उम्मीद है।

MEA ने कहा, ‘अगला G20 शिखर सम्मेलन 9 सितंबर और 10 सितंबर 2023 को नई दिल्ली में होगा

भारत का 5वां एससीओ शिखर सम्मेलन

इस साल एससीओ शिखर सम्मेलन समरकंद में आयोजित किया गया था। यह भारत का 5वां एससीओ शिखर सम्मेलन है।
प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 वें शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए उज्बेकिस्तान का दौरा किया, जो 15-16 सितंबर को आयोजित किया गया था।

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूसी राष्ट्रपति पुतिन और पाकिस्तान के प्रधान मंत्री शेबाज़ शरीफ के साथ द्विपक्षीय बैठक की संभावना के लिए 2019 के बाद से पहली बार एससीओ शिखर सम्मेलन को बारीकी से देखा गया।

2020 मॉस्को शिखर सम्मेलन कोविड -19 महामारी के कारण आभासी मोड में आयोजित किया गया था जबकि 2021 शिखर सम्मेलन दुशांबे में आयोजित किया गया था और एक ‘हाइब्रिड मोड’ पर आयोजित किया गया था।

व्लादिमीर पुतिन के साथ पीएम मोदी

sco modi putin
Modi and Putin

उज्बेकिस्तान में एससीओ शिखर सम्मेलन से इतर पीएम मोदी ने व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की। शिखर सम्मेलन से पहले क्रेमलिन ने कहा, दोनों नेता रणनीतिक स्थिरता, एशिया प्रशांत क्षेत्र की स्थिति और संयुक्त राष्ट्र और जी20 के भीतर द्विपक्षीय सहयोग के मुद्दों पर चर्चा करेंगे।
आधिकारिक रूसी नेस TASS ने कहा
‘मोदी के साथ अंतर्राष्ट्रीय एजेंडे पर भी बातचीत होगी| चर्चा करने के मुद्दे – रणनीतिक स्थिरता के मुद्दे, एशिया प्रशांत क्षेत्र की स्थिति और निश्चित रूप से संयुक्त राष्ट्र, जी 20 और एससीओ जैसे प्रमुख बहुपक्षीय प्रारूपों के साथ सहयोग।’

चूंकि रूस और यूक्रेन के बीच मौजूदा संघर्ष इस साल फरवरी में शुरू हुआ है, युद्ध के परिणामस्वरूप रूस पर कई प्रतिबंध लगे| राष्ट्र ने हिंसा को समाप्त करने और समस्या के राजनयिक समाधान की मांग की जा रही है|

उज्बेकिस्तान के साथ द्विपक्षीय बैठक

शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधान मंत्री ने अन्य द्विपक्षीय बैठकें भी कीं।
उज्बेकिस्तान में भारतीय राजदूत मनीष प्रभात ने टिप्पणी की,
‘जब हम मध्य एशियाई देशों से मिलते हैं, तो हम कनेक्टिविटी पर चर्चा करते हैं, जो भारतीय और मध्य एशियाई देशों के बीच व्यापार, निवेश और अन्य विनिमय को बढ़ावा देगा।’

समरकंद शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि कोविड -19 और यूक्रेन संकट ने वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं के लिए बाधा पैदा की है और एससीओ को आर्थिक सुधार को बढ़ावा देने के लिए विश्वसनीय और निवासी आपूर्ति श्रृंखलाओं का निर्माण करना चाहिए ताकि पूरे शासनकाल में बेहतर कनेक्टिविटी बनाने में मद्दत मिल सके और कहा कि एससीओ समूह के सदस्यों को एक दूसरे को सहयोग देना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि भारत मैन्युफैक्चरिंग हब बनने के अपने प्रयासों में प्रगति कर रहा है| चालू वर्ष में भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से 75% तक बढ़ने की उम्मीद है। भारत में 70,000 से अधिक स्टार्टअप हैं।

दुनिया भर के लोगों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने की बड़ी चुनौती का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि संभव समाधान बाजरा की खपत को प्रोत्साहित करने के प्रयास हो सकते हैं।

बाजरा को ‘सुपरफूड’ बताते हुए पीएम मोदी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र 2023 में अंतरराष्ट्रीय बाजरा वर्ष मनाएगा और एससीओ को बाजरा फूड फेस्टिवल आयोजित करने पर चर्चा करनी चाहिए। भारत की पहल पर पारंपरिक दवाओं पर एक नया एससीओ वर्किंग ग्रुप बनाया जाएगा।

आगे की खबरों के लिए हमारे साथ बने रहे |

जानिए प्रोजेक्ट जोरावर के बारे मे|

Subscribe INSIDE PRESS INDIA for more

(Written by – Ms. DIYA SAINI)

Follow IPI on INSTAGRAM

FOLLOW IPI ON MEDIUM.COM

FOLLOW IPI ON FACEBOOK

क्या है शंघाई सहयोग संगठनक्या है शंघाई सहयोग संगठनक्या है शंघाई सहयोग संगठनक्या है शंघाई सहयोग संगठनक्या है शंघाई सहयोग संगठनक्या है शंघाई सहयोग संगठनक्या है शंघाई सहयोग संगठनक्या है शंघाई सहयोग संगठनक्या है Subscribe To Our Newsletter

Processing…
Success! You're on the list.
inside press india
Inside Press India

FAQ’S

शंघाई सहयोग संगठन क्या है?

sco 1 1

शंघाई सहयोग संगठन भौगोलिक क्षेत्र और जनसंख्या के संदर्भ में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा क्षेत्रीय संगठन है जिसे शुरुआत में रूस, चीन, उज़्बेकिस्तान, ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान और कजाकिस्तान ने शुरू किया था.वर्ष 2017 में अस्थाना शिखर सम्मेलन में भारत और पाकिस्तान को पूर्ण सदस्यता प्रदान की गई|

शंघाई सहयोग संगठन की घोषणा कब की गई?

शंघाई सहयोग संगठन की घोषणा वर्ष 2001 में की गई थी जब 6 देशों ने शंघाई में एक समूह बनाने का फैसला किया. इससे पहले 1996 में यह संगठन बनाया गया था और उस समय इसे शंघाई 5 ग्रुप के नाम से जाना जाता था. इन सभी देशों ने 2002 में सेंट पीटर्सबर्ग समझौते पर हस्ताक्षर किए और वर्ष 2003 में इस संगठन ने अपनी कार्य क्षमता शुरू की थी|

शंघाई सहयोग संगठन के लक्ष्य क्या है?

क्या है शंघाई सहयोग संगठन

शंघाई सहयोग संगठन आपसी सदस्य देशों के बीच विश्वास को मजबूत करता है. साथ ही यह संगठन शांति, सुरक्षा, स्थिरता और बहुपक्षीय सहयोग के लिए कार्य करता है. यह एक लोकतांत्रिक, निष्पक्ष, और तर्कसंगत नहीं अंतर्राष्ट्रीय राजनीतिक और आर्थिक व्यवस्था की स्थापना की और अपने सदस्य देशों को बढ़ाता है|

भारत के किस शहर को शंघाई सहयोग संगठन की पहली राजधानी के रूप में चुना गया है?

भारत में एक नई घूर्णन पहल के तहत वाराणसी को पहली सांस्कृतिक और पर्यटन राजधानी के रूप में चुना गया है|

भारत कब शंघाई सहयोग संगठन की मेजबानी करेगा?

भारत भी सितंबर 2023 तक शिखर सम्मेलन के अंत में प्रेसिडेंट पद ग्रहण करेगा और अगले साल शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा|

शंघाई सहयोग संगठन के सदस्य देश कौन कौन से हैं?

शंघाई सहयोग संगठन शुरुआत में रूस, चीन, उज़्बेकिस्तान, ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान और कजाकिस्तान ने शुरू किया था. वर्ष 2017 में अस्थाना शिखर सम्मेलन में भारत और पाकिस्तान को पूर्ण सदस्यता प्रदान की गई जिसके बाद संगठन में कुल 8 सदस्य हैं. ईरान ने भी नए सदस्य के रूप में शामिल होने के लिए आवेदन किया है. जबकि बेलारूस ने भी सदस्यता के लिए आवेदन किया है|

Shanghai Cooperation Organization in hindi?

शंघाई सहयोग संगठन भौगोलिक क्षेत्र और जनसंख्या के संदर्भ में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा क्षेत्रीय संगठन है जिसे शुरुआत में रूस, चीन, उज़्बेकिस्तान, ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान और कजाकिस्तान नेशुरू किया था.वर्ष 2017 में अस्थाना शिखर सम्मेलन में भारत और पाकिस्तान को पूर्ण सदस्यता प्रदान की गई|

What is the full form of SCO?

Shanghai Cooperation Organization.

शंघाई सहयोग संगठन का मुख्यालय कहां स्थित है?

इसका मुख्यालय बीजिंग, चीन में है|

शंघाई सहयोग संगठन की आधिकारिक भाषा क्या है?

एससीओ की आधिकारिक भाषा चीनी और रूसी है|

समरकंद शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने विश्व को संबोधित करते हुए क्या कहा है?

sco modi putin

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि कोविड -19 और यूक्रेन संकट ने वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं के लिए बाधा पैदा की है और एससीओ को आर्थिक सुधार को बढ़ावा देने के लिए विश्वसनीय और निवासी आपूर्ति श्रृंखलाओं का निर्माण करना चाहिए ताकि पूरे शासनकाल में बेहतर कनेक्टिविटी बनाने में मद्दत मिल सके और कहा कि एससीओ समूह के सदस्यों को एक दूसरे को सहयोग देना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि भारत मैन्युफैक्चरिंग हब बनने के अपने प्रयासों में प्रगति कर रहा है| चालू वर्ष में भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से 75% तक बढ़ने की उम्मीद है। भारत में 70,000 से अधिक स्टार्टअप हैं।

दुनिया भर के लोगों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने की बड़ी चुनौती का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि संभव समाधान बाजरा की खपत को प्रोत्साहित करने के प्रयास हो सकते हैं।

अगला G 20 शिखर सम्मेलन कहां होगा?

अगला G20 शिखर सम्मेलन 9 सितंबर और 10 सितंबर 2023 को नई दिल्ली, India में होगा|

दुनिया का सबसे बड़ा क्षेत्रीय संगठन कौन सा है

शंघाई सहयोग संगठन .भौगोलिक क्षेत्र और जनसंख्या के संदर्भ में, यह दुनिया का सबसे बड़ा क्षेत्रीय संगठन है जो यूरेशिया के लगभग 60% क्षेत्र, विश्व की 40% आबादी और वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद के 30% से अधिक को कवर करता है

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

One thought on “Shanghai Cooperation Organization Summit: जानिए क्या है शंघाई सहयोग संगठन और 2017 से इसमें सम्मिलित भारत के लिए इसके मायने

Leave a Reply

Your email address will not be published.