fbpx
February 22, 2024
New INS Vikrant

New INS Vikrant

3 0
3 0
Read Time:14 Minute, 58 Second

Table of Contents

नया आई एन एस विक्रांत

New INS Vikrant आईएनएस विक्रांत, भारतीय नौसेना का पहला स्वदेशी विमानवाहक पोत है, जिसे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2 सितंबर, 2022 को पेश किया है। इसकी अनुमानित लागत रु। 20,000 करोड़, यह विमान 76% स्वदेशी है। यह चार गैस टर्बाइन (80MW पावर) और 7,500 नॉटिकल मील के धीरज के साथ काम करेगा। कहा जाता है कि इसकी 18 समुद्री मील की परिभ्रमण गति और 28 समुद्री मील की शीर्ष गति है।

INS VIKRANT 1

विमान वाहक (एयरक्राफ्ट कैरियर) – यह क्या है और यह क्यों है?

IMG 20220727 125201

प्रत्येक देश जिसके पास एक विमानवाहक पोत है, के पास एक बहुत मजबूत रक्षा आधार माना जाता है। विमानवाहक पोत मूल रूप से जहाज होते हैं, लेकिन वे जो समुद्र में एक हवाई अड्डे के रूप में कार्य करते हैं। इसमें एक पूर्ण लंबाई उड़ान डेक है और यह हवाई जहाजों को स्टोर करने और मरम्मत करने के लिए सभी प्रकार की सुविधाओं से सुसज्जित है। यह युद्ध के समय में संसाधन प्रबंधन में एक बहुत ही उपयोगी उपकरण है क्योंकि यह हवाई जहाजों के लिए रनवे के रूप में एक मंच बनाने में मदद करता है।


विक्रांत शब्द का अर्थ क्या है

विक्रांत एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ है “साहसी”
नए आईएनएस विक्रांत का आदर्श वाक्य
विमानवाहक पोत के पास इसका आदर्श वाक्य होगा – “जयमासमुधिस्पृधः”, जिसका अर्थ है “हम उन पर विजय प्राप्त करते हैं जो हमसे युद्ध में लड़ते हैं”। यह अभिव्यक्ति ऋग्वेद से ली गई है।

INS VIKRANT 2

आई एन एस विक्रांत का इतिहास

भारतीय नौसेना का पहला विमानवाहक पोत, INS विक्रांत (मूल) यूनाइटेड किंगडम द्वारा बनाया गया था और भारत द्वारा वर्ष 1957 में खरीदा गया था। इसे वर्ष 1961 में नौसेना में कमीशन किया गया था।
इसका इस्तेमाल 1971 में पाकिस्तान के साथ युद्ध के दौरान देश द्वारा नौसैनिक नाकाबंदी (पूर्वी भारत) के रूप में किया गया था और देश की सेवा के वर्षों के बाद, 1997 में इसे सेवा से हटा दिया गया था।

इसके अलावा वर्ष 2003 में, वाहक के डिजाइन और निर्माण को मंजूरी और मंजूरी दी गई थी। 2009 में, जहाज की उलटी बिछाने का सौभाग्यशाली क्षण आया। 2020 में, जहाज ने अपने बिजली उत्पादन उपकरण और प्रणोदन का परीक्षण किया। अगस्त 2021 से जुलाई 2022 तक चार समुद्री परीक्षणों के माध्यम से जहाज का परीक्षण और परीक्षण किया गया था।


मापन

New INS Vikrant विमानवाहक पोत की लंबाई 262 मीटर, 62 मीटर चौड़ी और 43,000 टन के विस्थापन की सूचना है। इसकी ऊंचाई 59 मीटर बताई गई है।

All about INS Vikrant
आई एन एस विक्रांत

विशाल क्षमता

New INS Vikrant -2,400 डिब्बे हैं, जिनमें अधिकतम 1,600 व्यक्ति शामिल हो सकते हैं। महिला नौसेना अधिकारियों और नाविकों के लिए डिज़ाइन किए गए विशेष केबिन हैं।

• विमान-

–हल्का लड़ाकू विमान (नौसेना संस्करण)
-स्वदेशी उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर
– अमेरिकी मूल के MH-60R मल्टी रोल हेलीकॉप्टर
-चॉपर (रूसी) – पूर्व चेतावनी नियंत्रण
-बहु-भूमिका वाहक सक्षम वारजेट (रूसी)


• किचन/कैंटीन-

किचन को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि यह प्रति घंटे 3,000 रोटियां उपलब्ध कराने के लिए काम कर सकता है।

• चिकित्सा परिसर-

इसमें सोलह (16) अस्पताल के बिस्तर शामिल होने की सूचना है। इसमें मॉड्यूलर सुविधाओं के साथ एक आपातकालीन ऑपरेशन थियेटर होने की भी सूचना है।

इसमें निम्नलिखित भी हैं-
–फिजियोथेरेपी क्लिनिक
–गहन देखभाल इकाई
–पैथोलॉजी की स्थापना
–डेंटल कॉम्प्लेक्स
–आइसोलेशन वार्ड
–टेलीमेडिसिन सुविधाएं


आईएनएस विक्रांत द्वारा नौकरी का अवसर

विमान ने 2,000 सीएसआई व्यक्तियों को रोजगार प्रदान किया है और कुछ 13,000 और को अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार प्रदान किया गया है।

INS Vikrant
आई एन एस विक्रांत कैसे भारत का स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर कहा जा सकता है

आई एन एस विक्रांत कैसे भारत का स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर कहा जा सकता है

New INS Vikrant विमान वाहक जिसे 70% स्वदेशी कहा जाता है, के पास इसके उपकरण और पुर्जे निम्नलिखित का उपयोग करके बनाए गए हैं –
स्टील
वाहक में प्रयुक्त स्टील को क्रमशः राउरकेला, बोकारो और भिलाई में ओडिशा, झारखंड और छत्तीसगढ़ स्थित स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड संयंत्र से खरीदा गया है।

स्विच बोर्ड, स्टीयरिंग गियर, वाटर टाइट हैच
उपरोक्त को मुंबई और पुणे में लार्सन एंड टुब्रो द्वारा निर्मित और आपूर्ति करने के लिए कहा गया है।

एयर कंडीशनर और फ्रिज –
एयर कंडीशनर और रेफ्रिजरेटर पुणे में किर्लोस्कर ग्रुप द्वारा बनाए गए हैं।

पंप –
एयर कैरियर के पंप चेन्नई में बेस्ट एंड क्रॉम्पटन द्वारा निर्मित किए जाते हैं।

एकीकृत प्लेटफार्म प्रबंधन प्रणाली –
विमान में प्रयुक्त इंटीग्रेटेड प्लेटफॉर्म मैनेजमेंट सिस्टम भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) द्वारा तैयार किया गया है।

गियर बॉक्स –
विमान में लगे गियर बॉक्स को एलकॉन नाम की कंपनी ने गुजरात में बनाया है।

विद्युत केबल्स –
विद्युत केबलों की आपूर्ति कोलकाता स्थित निक्को समूह द्वारा की गई है।

जहाज की एंकर चेन केबल –
एंकर चेन केबल कोलकाता शहर में बनाई गई है।

आईएनएस विक्रांत (New INS Vikrant) का पताका
मूल रूप से भारतीय नौसेना का पताका जॉर्ज क्रॉस हुआ करता था। फिर वर्ष 2001 में भारतीय नौसेना के शिखर को कोने के विपरीत दिशा में जोड़ा गया। वर्ष 2004 में, एक और परिवर्तन हुआ, जिसमें क्रॉस के चौराहे पर भारत का प्रतीक जोड़ा गया।
इस बार प्रधानमंत्री ने भारतीय नौसेना के नए ध्वज का उद्घाटन किया है। पताका छत्रपति शिवाजी महाराज की मुहर को दर्शाती है।

अगला स्वदेशी विमानवाहक पोत

रक्षा संबंधी संसदीय स्थायी समिति ने भारत के दूसरे स्वदेशी विमानवाहक पोत को पेश करने का निर्णय लिया है। नए विमानवाहक पोत का नाम आईएनएस विशाल रखा जाएगा। यह प्रस्तावित है कि नए नियोजित विमानवाहक पोत में लगभग 65,000 टन का विस्थापन होगा।

New INS VikrantNew INS VikrantNew INS VikrantNew INS VikrantNew INS VikrantNew INS Vikrant

क्या आप जानते हैं भारतीय नेवी की तरह ही भारतीय आर्मी ने भी प्रोजेक्ट जोरावर लॉन्च किया है. क्लिक कीजिए और जानिए क्या है चीन को काउंटर करने के लिए भारतीय आर्मी का प्रोजेक्ट जोरावर. CLICK HERE

आगे की खबरों के लिए हमारे साथ बने रहे

Subscribe INSIDE PRESS INDIA for more

(Written by – Ms. Ananya Trivedi)

Follow IPI on INSTAGRAM

FOLLOW IPI ON MEDIUM.COM

FOLLOW IPI ON FACEBOOK

Subscribe To Our Newsletter

Processing…
Success! You're on the list.
inside press india
IPI

©INSIDE PRESS INDIA (ALL RIGHTS RESERVED)

FAQ’S

आई एन एस विक्रांत क्या है

INS VIKRANT 1

आई एन एस विक्रांत भारतीय नौसेना का पहला स्वदेशी विमान वाहक पोत है जिसे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2 सितंबर 2022 को पेश किया है. यह विमान वाहक पोत समुद्र में विमान के उड़ान भरने में उतरने के लिए रनवे का कार्य करते हैं

आई एन एस विक्रांत की क्या विशेषताएं हैं

INS Vikrant

आई एन एस विक्रांत भारतीय नौसेना का पहला स्वदेशी विमान वाहक पोत है जिसकी अनुमानित लागत लगभग 20000 करोड रुपए है. यह 76 प्रतिशत स्वदेशी है. यह 4 गैस टरबाइन और 7500 नॉटिकल मील के साथ काम करेगा.

विक्रांत शब्द का क्या मतलब है

विक्रांत एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ होता है ‘साहसी’

आई एन एस विक्रांत का आदर्श वाक्य क्या है

आई एन एस विक्रांत का आदर्श वाक्य ‘“जयमासमुधिस्पृधः” है जिसका अर्थ होता है ” हम उन पर विजय प्राप्त करते हैं जो हमसे युद्ध में लड़ते हैं ” यह अभिव्यक्ति ऋग्वेद से ली गई है

आई एन एस विक्रांत का इतिहास क्या है

भारतीय नौसेना का पहला विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रांत मूल रूप से यूनाइटेड किंगडम द्वारा बनाया गया था और भारत द्वारा वर्ष 1957 में खरीदा गया था. इसे वर्ष 1961 में नौसेना में कमीशन किया गया था. 1971 में पाकिस्तान के युद्ध में इसे उपयोग भी लिया गया और कई वर्षों की सेवा के बाद 1997 में इस सेवा से हटा लिया गया था

आई एन एस विक्रांत की लंबाई व चौड़ाई कितनी है

भारत का पहला स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर आईएनएस विक्रांत 262 मीटर लंबा और 62 मीटर चौड़ा है. इसकी ऊंचाई 59 मीटर बताई गई है. यह 43000 टन सामान रख कर ले जा सकता है.

भारत का अगला स्वदेशी विमान वाहक पोत कौन सा है

भारतीय रक्षा संबंधी संसदीय स्थाई समिति ने भारत के दूसरे स्वदेशी विमान वाहक पोत को पेश करने का निर्णय लिया है वह इस पोत का नाम आई एन एस विशाल रखा जाएगा. यह 65000 टन माल विस्थापित करने की क्षमता रखेगा

आई एन एस विक्रांत की पताका किसे दर्शाती है

आई एन एस विक्रांत की पताका छत्रपति शिवाजी महाराज की मुहर को दर्शाती है

आई एन एस विक्रांत को कैसे भारत का स्वदेशी पोत कहा जा सकता है

New INS Vikrant

आई एन एस विक्रांत 70% स्वदेशी कहा जा सकता है क्योंकि इसमें उपयोग किया गया स्टील भारत में राउरकेला, बोकारो और उड़ीसा झारखंड और छत्तीसगढ़ स्टील स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया लिमिटेड से आया है. इसमें लगाए गए स्विच बोर्ड स्टीयरिंग गियर आदि को मुंबई और पुणे में लार्सन एंड टूब्रो द्वारा निर्मित किया गया है. इसमें लगाए गए एयर कंडीशनर व रेफ्रिजरेटर को पुणे में किर्लोस्कर ग्रुप द्वारा बनाया गया है. इसके पंप को चेन्नई बेस्ड क्रॉन्पटन द्वारा निर्मित किया गया है. इसमें लगाए गए गियर बॉक्स को एलकॉन नाम की कंपनी ने गुजरात में बनाया है आदि कई अन्य प्रकार की सामग्री भी भारत में ही निर्मित कर उपयोग में ली गई है

What is INS Vikrant

आई एन एस विक्रांत भारतीय नौसेना का पहला स्वदेशी विमान वाहक पोत है जिसे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2 सितंबर 2022 को पेश किया है. यह विमान वाहक पोत समुद्र में विमान के उड़ान भरने में उतरने के लिए रनवे का कार्य करते हैं

INS Vikrant in Hindi

क्या है शंघाई सहयोग संगठन

आई एन एस विक्रांत भारतीय नौसेना का पहला स्वदेशी विमान वाहक पोत है जिसे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2 सितंबर 2022 को पेश किया है. यह विमान वाहक पोत समुद्र में विमान के उड़ान भरने में उतरने के लिए रनवे का कार्य करते हैं

INS Vikrant explained

आई एन एस विक्रांत भारतीय नौसेना का पहला स्वदेशी विमान वाहक पोत है जिसे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2 सितंबर 2022 को पेश किया है. यह विमान वाहक पोत समुद्र में विमान के उड़ान भरने में उतरने के लिए रनवे का कार्य करते हैं

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *